Sanjay Dutt Biography in Hindi

संजय बलराज दत्त एक भारतीय अभिनेता हैं जो बॉलीवुड के कई फिल्मो में काम कर चुके हैं। उन्हें 2 filmfare अवार्ड तथा तीन स्क्रीन अवार्ड प्राप्त हुए हैं। उन्होंने 187 फिल्मों में काम किया है। इन्होने रोमांस शैली से लेकर कॉमेडी शैली तक काम किया लेकिन इन्हे एक्शन शैलियों में टाइपकास्ट किया जाता है। इन्होने रॉकी फिल्म से डेब्यू किया जो इनके पिता सुनील दत्त द्वारा डायरेक्ट की गई थी।

वर्ष 1986 में फिल्म नाम में क्राइम थ्रिलर फिल्म सक्सेस हुई तथा सुपरस्टार के रूप में उभरे। वर्ष 1988 में जीते हैं हम शान से तथा मर्दों वाली बात, वर्ष 1989 में फिल्म इलाका, हम भी इंसान हैं तथा कानून अपना अपना, वर्ष 1991 में साजन तथा वर्ष 1993 में खलनायक जैसी हिट फिल्मो में काम किया। वर्ष 1999 में वास्तव, वर्ष 2001 मिशन कश्मीर फिल्म में आर्मी अफसर का रोल प्ले किया। वर्ष 2003 में मुन्ना भाई MBBS तथा 2006 में इसका सीक्वॅल लगे रहो मुन्ना भाई रिलीज़ हुई। वर्ष 1993 में संजय दत्त टाडा और आर्म्स एक्ट के तहत अरेस्ट किये गए। वर्ष 2016 में जेल से रिहा हुए। वर्ष 2018 में रणवीर कपूर द्वारा संजय दत्त की बायोपिक संजू बनाई गई। जिसको ऑडियंस द्वारा पॉजिटिव रिव्यु मिले।

Sanjay Dutt Biography in Hindi

शुरुआती जीवन

संजय दत्त का जन्म 29 जुलाई 1959 को बॉम्बे सिटी में हुआ था। इनके पिता का नाम सुनील दत्त तथा माता का नाम नरगिस दत्त था दोनों ही हिंदी सिनेमा के अभिनेता तथा अभिनेत्री थे। इनके हिन्दू परिवार तथा माता मुस्लिम थी जिन्होंने बाद में हिन्दू धर्म अपनाया। संजय दत्त की दो बहने थी पहली का नाम प्रिया दत्त तथा दूसरी नम्रता दत्त है। वर्ष 1981 में इनकी माँ नरगिस दत्त की मृत्यु हो गई। वर्ष 1972 में कव्वाली सिंगर के रोल में रेशमा और शेरा फिल्म में दिखे जो इनके पिता द्वारा starr की गई थी।

नाम  संजय बलराज दत्त
माता  नरगिस दत्त
पिता  सुनील दत्त
जन्मवर्ष  29 जुलाई 1959
जन्मस्थान  बॉम्बे सिटी
पत्नी  मान्यता दत्त
बच्चे  त्रिशला, इकरा, शहरान
प्रोफेशन  भारतीय अभिनेता
धर्म  हिन्दू

करियर

संजय दत्त ने अपना फिल्म डेब्यू रॉकी से वर्ष 1981 में किया था। वर्ष 1982 में फिल्म विधाता में इन्होने शम्मी कपूर, दिलीप कुमार तथा संजीव कुमार के साथ काम किया। वर्ष 1986 में फिल्म नाम के बाद इनके करियर में मोड़ आया। यह इनके करियर के बहुत बड़ी सफलता थी। संजय दत्त 1980 के दशक में आयी सफल फिल्मों जैसे ईमानदार, ईनाम दस हज़ार, जीते हैं हम शान से, मर्दों वाली बात, इलाका, हम भी इंसान हैं, कानून अपना अपना तथा ताकतवर में नज़र आये। इनकी सफलता 1990 के दशक में भी बरकरार रही तथा इन्होने तेज़्ज़ा, खतरनाक, ज़हरीले, थानेदार, खून का क़र्ज़, यलगार, गुमराह, साहिबान तथा आतिश जैसी सफल फिल्मो में दिखे।

अरेस्ट के बाद की गयी फिल्में

वर्ष 1993 में मुंबई सीरियल बॉम्बिंग से जूझ रहा था। संजय दत्त उन बॉलीवुड के लोगों में से एक थे जिनको इनमे शामिल होने का आरोप लगाया गया था। दत्त पर यह आरोप लगाया गया था की इन्होने अबू सलेम तथा रियाज सिद्दीकी से हथियारों की डिलीवरी स्वीकार की थी जिनका मुंबई बॉम्बिंग से सम्बन्ध था। यह क्लेम किया गया था की यह हथियार आतंकवादियों से जुड़े हथियारों का हिस्सा थे। संजय दत्त से यह कन्फेस किया था की Type-56 उन्होंने सनम फिल्म प्रोडूसर से अपने परिवार के प्रोटेक्शन के लिए लिया था। संजय दत्त के सजा का कारण सुनील दत्त के राजनीतिक प्रतिद्वंदिता थी ऐसा बताया गया है। अरेस्ट के बाद इनकी पहली फिल्म दौड़ थी जोकि बहुत अच्छी नहीं चली। इसके बाद फिल्म दुश्मन जिसने आर्थिक रूप से भी अच्छा प्रदर्शन किया।

बाद में दत्त ने धमाल, शूटआउट एट लोखंडवाला, आल द बेस्ट, डबल धमाल, सन ऑफ़ सरदार, अग्निपथ और पीके में अभिनय किया। बिग्ग बॉस पांचवे सीजन में सलमान खान के साथ संजय दत्त ने शो को कोहोस्ट किया था।

व्यक्तिगत जीवन

Sanjay Dutt Family

1980 के दशक में अपनी पहली फिल्म की कोस्टार टीना मुनीम को डेट करने बाद वर्ष 1987 में ऋचा शर्मा से शादी की। वर्ष 1996 में ब्रेन टूमर से उसकी मृत्यु हो गयी। उनसे एक बेटी है त्रिशला दत्त जो अपने नाना नानी के साथ US में रहती हैं। वर्ष 1998 में रिहा पिल्लई के साथ दूसरी शादी की तथा वर्ष 2008 में इनका तलाक हो गया। उसके बाद उन्होंने मान्यता से शादी की जिनसे उनको एक बेटा शहरान तथा बेटी का नाम इकरा है।

वर्ष 2020 में उन्हें स्टेज 3 लंग कैंसर था, मुंबई में उन्होंने ट्रीटमेंट कराया अब उनका लंग कैंसर रिकवर हो गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *