Abhinandan Varthaman Biography in Hindi

अभिनन्दन वर्धमान एक इंडियन एयर फाॅर्स फाइटर पायलट हैं जो इंडिया-पाकिस्तान स्टैंड ऑफ के हवाई लड़ाई में उनके विमान को मार गिराए जाने के बाद 60 घंटे के लिए बंदी बना लिया गए थे। अभिनन्दन ने मिग-21 BISON से पाकिस्तान के PAF F-16 को मार गिराया था पर पाकिस्तान इसे मानने से इंकार करता है। इसके लिए इन्हे वीर चक्र से सम्मानित किया गया था।

Abhinandan Varthaman Biography in Hindi

पाकिस्तान ने ऐसी वीडियो और फोटोज रिलीज़ किया था जिसमे यह दिखाया गया की अभिनन्दन को गांव के लोगो से पाकिस्तानी आर्मी ने बचाया था। अभिनन्दन की आँखों में पट्टी भी बंधी थी। 28 फरवरी 2019 को पाकिस्तान ने छोड़ने का निर्णय किया। वह 1 मार्च 2019 भारत (वाघा ) वापस लौटे। पूछताछ के दौरान मूछों को ताव देते हुए अभिनन्दन ने बोला की ‘चाय अच्छी थी’ इस वाकये से मीडिया से बहुत लोकप्रियता हासिल की। नवम्बर 2021 में अभिनन्दन को ग्रुप कैप्टन से विंग कमांडर के रूप में प्रमोट किये गए।

नाम अभिनन्दन वर्धमान
माता  शोभा वर्धमान
पिता  सिंभाकुट्टी वर्धमान
पत्नी  तन्वी वर्धमान
उम्र  39 वर्ष
प्रोफ़ेशन फाइटर पायलट
जन्मदिवस 21 जून 1983
जन्मस्थान थिरुपनामूर (कांचीपुरम )
धर्म तमिल जैन

शुरूआती जीवन तथा करियर

अभिनन्दन का जन्म 21 जून 1983 में तमिल जैन परिवार में हुआ था। इनकी माँ शोभा वर्धमान डॉक्टर तथा पिता सिंभाकुट्टी वर्धमान एयर मार्शल थे। इनकी पत्नी का नाम तन्वी मारवाह है जो इनकी बचपन की दोस्त थी। अभिनन्दन वर्धमान की बहन का नाम अदिति वर्धमान है। अभिनन्दन की स्कूलिंग सैनिक स्कूल में हुई। इन्होने ग्रेजुएशन नेशनल डिफेन्स अकादमी से पूरा किया। 19 जून 2004 को फ्लाइंग अफसर बने। 19 जून 2006 को प्रमोशन के बाद फ्लाइट लियूटीनैंट बने। अभिनन्दन वर्धमान Mig -21 Bison से पहले ये Su-30 MKI के फाइटर पायलट थे।

महत्वपूर्ण घटना

27 फरवरी 2019 को, पाकिस्तानी एयरक्राफ्ट द्वारा भारत अधिकृत कश्मीर में घुसपैठ को रोकने के लिए अभिनन्दन ने मिग-21 फाइटर एयरक्राफ्ट का प्रयोग किया। उनको खदेड़ते-खदेड़ते LOC से लगभग 7 KM पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में जा पहुंचे। वहां पाकिस्तानी मिसाइल द्वारा मिग-21 फाइटर एयरक्राफ्ट गिरा दी गई। अभिनन्दन ने पैराशूट का प्रयोग किया तथा एक पाकिस्तानी गांव HORRAN में लैंड किया। वहा के लोकल ग्रामवासियो पैराशूट पर लगा भारतीय झंडा देखकर जान गए की वह भारतीय है। लैंड करने के बाद उन्होंने पूछा की क्या वह भारत में है, एक लड़के ने कहा की हाँ। उसके बाद अभिनन्दन ने प्रो-इंडिया स्लोगन बोलना शुरू किया। वहां के लोकल लोगो ने प्रो-पाकिस्तान स्लोगन चिल्लाना शुरू कर दिया। अभिनन्दन ने वार्निंग फायरिंग की। पाकिस्तानी आर्मी के बचाने से पहले गांव वाले से हाथापाई हुई।

Abhinandan Varthaman in Pakistan

बाद में इंडियन आर्मी ऑफ़ एक्सटर्नल अफेयर ने यह कन्फर्म किया की हमारा एक पायलट गायब है जोकि मिग-21 फाइटर एयरक्राफ्ट के फाइटर पायलट थे ऐसा तब हुआ जब वो पाकिस्तानी एयरक्राफ्ट को भगा रहे थे। IAF द्वारा यह बताया की अभिनन्दन ने पाकिस्तान का PAF F-16 को मार गिराया। क्यूंकि PAF F-16 के कुछ पार्ट्स मिले।

भारतीय मीडिया के अनुसार, US ने पाकिस्तान को PAF F-16 इस कंडीशन पर दिया था की वह इसका प्रयोग आतंकवादियों के विरुद्ध करेगा। हालाँकि विदेश नीति पत्रिका ने यह कहा की PAF F-16 की लिमिटेशन के लिये कोई शर्तें नहीं बनायीं गई है। पाकिस्तान ने कहा की इस घटना में PAF F-16 का प्रयोग नहीं हुआ है। US की विदेश नीति पत्रिका ने भी यह कन्फर्म किया की PAF F-16 जितने पाकिस्तान के पास थे अभी भी उतने ही है। अमेरिकी अधिकारियो ने इस बात की पुष्टि करने से मना कर दिया क्यूंकि उनका कहना है की यह US और पाकिस्तान का मामला है।

अभिनन्दन का स्वदेश आगमन

28 फरवरी 2019 को, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने पाकिस्तान के पार्लियामेंट में अभिनन्दन वर्धमान को रिलीज़ करने की घोषणा। द न्यूयोर्क टाइम्स ने खुलासा किया की पाकिस्तान पर अन्य देशों जैसे US और चीन आदि  का दबाव था। वह 1 मार्च 2019 भारत (वाघा) वापस लौटे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनका स्वागत किया और कहा की उन्हें उनपर गर्व है। उसके बाद उनका मेडिकल टेस्ट हुआ जिनमे पता चला उनकी रिब में चोट लगी थी उन्होंने बताया की पाकिस्तान अथॉरिटी ने उन्हें फिजिकली नहीं बल्कि मेंटली चोट पहुंचाई। उसी साल अगस्त में उन्हें वीर चक्र से सम्मानित किया।

अभिनन्दन वर्धमान की मूछें बहुत प्रचलित हुई थी। जिसको अभिमन्यु कट का नाम दिया गया था

अवार्ड्स

  • वीर चक्र
  • वाउन्ड मेडल
  • जनरल मेडल
  • सामान्य सेवा मेडल
  • स्पेशल सर्विस मेडल
  • सियाचिन ग्लेशियर मेडल
  • सैन्य सेवा मेडल
  • हाई ऐटिटूड सर्विस मेडल
  • 9 इयर्स लॉन्ग सर्विस मेडल

अभिनन्दन वर्धमान भारतीय वायुसेना के ऐसे ऑफिसर है जिनकी राह पूरा हिंदुस्तान देख रहा था। भारतीय युवाओ में ही नहीं बल्कि हर एक हिंदुस्तानी में जोश भर गया। भारत आने के बाद अभिनन्दन ने कहा था की अपने देश पहुंचकर अच्छा लग रहा है। अभिनन्दन के स्वदेश आगमन पर अपने जाबाज सिपाही को देखकर पूरे देश में ख़ुशी की लहर दौड़ गयी। उन्होंने यह साबित किया की वह बहुत बहादुर और अपने प्रोफेशन को लेकर निष्ठावान है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *