Bajrang Punia Biography in Hindi

बजरंग पुनिआ एक भारतीय फ्रीस्टाइल रेसलर हैं जोकि 65 किलोग्राम भार केटेगरी में कम्पीट करते हैं। बजरंग ने 2020 टोक्यो ओलिंपिक में  ब्रोंज मेडल जीता। बजरंग पुनिआ वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप में 3 मेडल जीतने वाले पहले भारतीय रेसलर बने। वर्ष 2022 कामनवेल्थ गेम्स में गोल्ड मेडल जीतकर देश का नाम रोशन किया।

शुरूआती जीवन

बजरंग पुनिआ का जन्म 26 फरवरी वर्ष 1994 में हरियाणा के जजपुर जिले के खुदन गांव में हुआ। उन्होंने सात वर्ष की उम्र से रेसलिंग शुरू कर दी थी तथा अपने पिता के द्वारा खेल को आगे बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित किये गए। बजरंग पुनिआ रूरल एरिया में पले बढ़े। उनके परिवार के पास ट्रेडिशनल खेलों के लिए पैसे नहीं थे। इसलिए उन्हें कुश्ती तथा कब्बड्डी जैसे मुफ्त खेलो में भाग लेना पड़ा। पुनिआ के पिता भी एक रेसलर थे। कम उम्र में ही उनके परिवार ने उन्हें लोकल मड रेसलिंग स्कूल में डाल दिया। रेसलिंग का अभ्यास करने के लिए स्कूल छोड़ना शुरू कर दिया।

वह वर्ष 2008 में छत्रसाल स्टेडियम गए तथा उन्हें रामफल मन्न ने ट्रेनिंग दी। वर्ष 2015 में अपने परिवार के साथ सोनीपत चले गए ताकि वह स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया के एक रीजनल केंद्र में भाग ले सके। अभी वह इंडियन रेलवे में गैज़ेटेड अफसर OSD स्पोर्ट्स के रूप में कार्यरत हैं। बजरंग पुनिआ को अपने गांव के बड़ो की ज्ञान की बात सुनने में बहुत आंनद आता है। उन्होंने अपनी साथी रेसलर संगीता फोगाट से शादी की है।

Bajrang Punia Biography

नाम  बजरंग पुनिआ
माता  ओम पियारी पुनिआ
पिता  बलवन सिंह पुनिआ
पत्नी  संगीता फोगाट पुनिआ
जन्मवर्ष  26 फरवरी वर्ष 1994
जन्मस्थान  हरियाणा के जजपुर जिले के खुदन गांव
प्रोफेशन  रेसलर
सिटिज़न  भारतीय
हाइट  5 फिट 5 इंच
वेट  65 KG

करियर

बजरंग पुनिआ को 2013 एशियाई रेसलिंग चैंपियनशिप के सेमीफइनल में हार का सामना करना पड़ा। 2013 वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप में मेन्स फ्रीस्टाइल रेसलिंग में 60 किलोग्राम भार केटेगरी में बजरंग पुनिआ ने ब्रोंज मेडल जीता। स्कॉटलैंड के ग्लास्गो में आयोजित 2014 कामनवेल्थ गेम्स में मेन्स फ्रीस्टाइल में 61 किलोग्राम भार केटेगरी में कनाडा के डेविड ट्रेम्ब्ले को 1-4 से हराने के बाद सिल्वर मेडल जीते। साउथ कोरिआ के इंचिओन में पुनिआ ने ईरान के मसूद से 1-3 से हारने के बाद मेन्स फ्रीस्टाइल के 61 किलोग्राम भार केटेगरी में सिल्वर मेडल जीता। कजाकिस्तान के अस्ताना में बजरंग ने मेंस के फ्रीस्टाइल के 61 किलोग्राम भार केटेगरी ईरान के मसूद इस्माइलपुरी से हारकर सिल्वर मेडल जीता।

2015 वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप में बजरंग पुनिआ मेडल नहीं ला सके। दिल्ली में आयोजित एशियाई रेसलिंग चैंपियनशिप 2017 में बजरंग पुनिआ गोल्ड मेडल जीते। बजरंग प्रो रेसलिंग लीग का भी हिस्सा रह चुके हैं। बजरंग पुनिआ 2018 कामनवेल्थ गेम्स में मेन्स फ्रीस्टाइल के 65 किलोग्राम भार केटेगरी में गोल्ड मेडल जीता। बजरंग पुनिआ 2018 एशियाई गेम्स में मेन्स फ्रीस्टाइल के 65 किलोग्राम भार केटेगरी में जैपनीज़ रेसलर Taktani Daichi को 11-8 से हराकर गोल्ड मेडल जीता। 2019 वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप में भी 65 किलोग्राम भार केटेगरी में सिल्वर मेडल जीता। 2020 रोम रैंकिंग सीरीज में पुनिआ ने ओलिवर जॉर्डन को 4-3 से हराया। वह इटली में आयोजित Matteo Pellicon रैंकिंग सीरीज 2021 में 65 किलोग्राम भार केटेगरी में गोल्ड मेडल जीते। 2021 एशियाई रेसलिंग चैंपियनशिप में सिल्वर मेडल तथा 2020 टोक्यो ओलिंपिक में में ब्रोंज मेडल जीते।

अवार्ड्स

  • 2015 में अर्जुन अवार्ड
  • 2019 में पद्म श्री अवार्ड
  • 2019 में राजीव गाँधी खेल रत्न
  • 2020 में FICCI इंडिया स्पोर्ट्स अवार्ड

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *